DeFi के बारे में पूरी जानकारी को आसान हिंदी भाषा मे | everything about DeFi for beginners

DeFi के बारे में पूरी जानकारी को आसान हिंदी भाषा मे | everything about DeFi for beginners
DeFi के बारे में पूरी जानकारी को आसान हिंदी भाषा मे | everything about DeFi for beginners 2

ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी की शुरुआत को ज्यादा समय भी नहीं हुवा है लेकिन इस टेक्नोलॉजी को अभी के समय दुनिया भर में काम में लिया जाने लगा है क्युकी ये टेक्नोलॉजी दुनिया के हर फील्ड में अभी की टेक्नोलॉजी के मुकाबले सही काम कर रही है। इसी वजह से दुनिया भर में ब्लॉकचैन को लगभग हर फील्ड से कनेक्ट करवाने की तैयारी की जा रही है।

जैसे की हमने पहले बताया था की कैसे ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी की मदद से मेटावर्स का निर्माण किया जा रहा है जो की एक वर्चुअल दुनिया होगी। उसी प्रकार अब ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी को फाइनेंस के सेक्टर से भी कनेक्ट किया जा रहा है ताकि फाइनेंस के वर्ल्ड का भी डिसेन्ट्रलिज़ैशन किया जा सके।

तो इस पोस्ट में हम ये जानने वाले है की डिसेन्ट्रलिज़ैशन ऑफ़ फाइनेंस क्या होता है और इसके क्या क्या उपयोग किये जा रहे है। हालाँकि अभी के समय में ये इतना काम में नहीं लिया जा रहा है क्युकी अभी इस टेक्नोलॉजी में बहुत सारे मॉडिफिकेशन किये जाने बाकि है। अभी के समय में इसका उपयोग बहुत सारे फील्ड में तो शुरू हो चूका है लेकिन जब बात इसको फाइनेंस के वर्ल्ड से कनेक्ट करने की आती है तो इसमें सबसे ज्यादा सिक्योरिटी की जरूरत है।

DeFi का पूरा नाम क्या है? (what is Full form of DeFi In Crypto)

DeFi शब्द फाइनेंस और डिसेन्ट्रलिज़ैशन से बना हुवा है जिसका पूरा नाम डिसेन्ट्रलिज़ैशन ऑफ़ फाइनेंस या फिरडिसेंट्रलाईज़ेड फाइनेंस है। बात करे DeFi के पुरे हिंदी नाम के बारे में तो DeFi का हिंदी में मतलब विकेन्द्रीकृत वित्त होता है।

चलिए इसके बारे में थोड़ा और जान लेते है , जिससे हम आसानी से ये समझ सकते है की विकेन्द्रीकृत वित्त क्या होता है। जैसे की हम जानते है की फाइनेंस को अभी के समय में डिजिटल रूप में ही कंट्रोल किया जाता है और इसका पूरा कण्ट्रोल, सरकार या फिर कोई एक अथॉरिटी करती है साथ में डिजिटल वर्ल्ड में किसी स्कैमर से बचना बी थोड़ा मुश्किल हो जाता है,

क्युकी जब स्कैमर के पास कंट्रोल चला जाता है तो फिर वो सारे काम को बिगड़ सकता है ,और इसी समस्या को दूर करने के लिए ब्लॉकचैन से फाइनेंस को कनेक्ट करवाया जा रहा है , ताकि फाइनेंस के सेक्टर का कंट्रोल किसी एक के पास न रहे।

हमारा कैपिटल जो की बैंक या फिर किसी ऐसी अथॉरिटी के पास होता है। उसको ये पता होता है की हमारी पूंजी के साथ क्या करना है , वो आपने हिसाब से उनको कंट्रोल करते है लेकिन जब इसको डीसेंट्रलाइज्ड किया जायेगा तब किसी और के पास ये कंट्रोल न होकर आपके पास ही सारा कण्ट्रोल होगा।

फाइनेंस को कंट्रोल करने के आधार पर दो हिस्सों में बात सकते है। जिसमे से एक केंद्रीकृत (centralized ) और दूसरा विकेंद्रीकृत (decentralized ).

केंद्रीकृत फाइनेंस क्या होता है?(what is centralized finance In Hindi)

जैसे की नाम से ही पता चल रहा है की ये एक ऐसा फाइनेंस का सेक्टर होता है जो की किसी न किसी अथॉरिटी के द्वारा कंट्रोल किया जाता है जैसे की बैंक या फिर ऐसे एप्लीकेशन जिनकी मदद से हम निवेश करते है।

विकेंद्रीकृत फाइनेंस क्या होता है ? (What Is Decentralized Finance).

पब्लिक ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी से कनेक्टेड फाइनेंस को हम Decentralized Finance कहते है। एक ऐसा फाइनेंस का इकोसिस्टम जो की किसी भी ऑथोर्टी के कण्ट्रोलमें न होकर पब्लिक बी;लोकचेन पर होस्टेड हो उसको हम Decentralized Finance कहते है।

Decentralized finance के क्या क्या फायदे है।

  • वैसे तो ये पूरा काम ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी पर आधारित है इसलिए इसके वो सारे फायदे है जो की नार्मल ब्लीॉकचैन टेक्नोलॉजी वाले प्लेटफार्म के होते है लेकिन कुछ ऐसे फायदे है जो की हमे नार्मल फाइनेंस में देखने को नहीं मिलते है जो की कुछ इस प्रकार है।
  • Decentralized finance से ट्रांसेकशन की स्पीड बढ़ जाएगी।
  • Decentralized finance चालू होने के बाद में किसी एक अथॉरिटी या फिर बैंक के कंट्रोल में हमारी पूंजी नहीं होगी जिसकी वजह से बैंकिंग सिस्टम पूरी तरह से ट्रांसपेरेंट हो जायेगा।
  • Decentralized finance या फिर DeFi के पूरी तरह से एक्शन में आने के बाद में हमे इंटरनेशनल ट्रांसेकशन में भी आसानी हो जाएगी।
  • सबसे बड़ी बात की इस फाइनेंस सिस्टम के लागु होने के बाद में किसी भी तरह का लंच टाइम नहीं रहेगा और न ही किसी तरह की छुट्टी। मतलब की आप सप्ताह के सातो दिन और पुरे २४ घंटे फाइनेंस की सर्विस काम में ले सकते हो।

Leave a Comment

Your email address will not be published.