वेब 3.0 क्या है Hindi Me jane Web 3.o kya hai ( WEB​​3.0 Explained in Hindi 2022)

वेब 3.0 क्या है Hindi Me jane Web 3.o kya hai  ( WEB​​3.0 Explained in Hindi 2022)
वेब 3.0 क्या है Hindi Me jane Web 3.o kya hai ( WEB​​3.0 Explained in Hindi 2022) 2

दोस्तों इस पोस्ट में हम बात करने वाले है की वेब 3.0 क्या ह। इसके बारे में आपको सारी जानकारी आसानी हिंदी भाषा में मिलने वाली है। जैसे की हम सभी जानते है की अभी के समय में इंटरनेट का उपयोग लगभग सभी करते है। चाहे हो डायरेक्ट रूप से हो या फिर इनडायरेक्ट रूप से। लेकिन किसी न किसी तरह से सभी इंटरनेट पर निर्भर है।

जब इंटरनेट की शुरुआत हुइ थी तो किसी ने ये सोचा नहीं था की इंटरनेट आज की दुनिया का सबसे अहम् हिस्सा बनने वाला है। लेकिन इसके पीछे जो भी कारन रहा हो हम किसी न किसी तरह से इंटरनेट से जुड़ चुके है और है जैसे की इस दुनिया में हर चीज को मॉडिफाई करना जरुरी होता है उसी प्रकार इंटरनेट भी मॉडिफाई होने वाला है और इसी से जुडा है वेब 3.O .

इंटरनेट की जनरेशन ( पीढ़िया )

जैसे की हम जानते है की हर एक चीज को अपडेट करने के बाद में उसकी जनरेशन को बदल दिया जाता है वैसे ही इंटरनेट में जब भी कोई बहुत बड़ा अपडेट आता है जो की पुरे इंटरनेटको प्रभावित करता है तो उसकी वजह से पूरा इंटरनेट का मतलब ही बदल जाता है और इसी से वेबसाइट के जनरेशन को डिफाइन किया जाता है।

ऐसे ही इंटरनेट की आने वाली जनरेशन जिसको की हम वेब ३ के नाम से जानते है। उसके बारे में हम थोड़ा और जान लेते है।इससे पहले हम इंटरनेट के पुराने वर्शन के बारे में थोड़ा ज्ञान ले लेते है ताकि हम आसानी से वेब ३ को समझ सके।

वेब 1 (Web 1)- शुरुआती इंटरनेट की पीढ़ी (First generation Internet)

जब इंटरनेट की शुरुआत हुइ थी तो उस समय इंटरनेट पर बहुत ही कम्प्लीकेटेड वेबसाइट हुवा करती थी या फिर यु कहे की नार्मल आदमी इंटरनेट के बारे में नहीं जनता था और अगर जनता भी था तो इसका उपयोग नहीं कर पता था क्युकी ज्यादा डाटा उपलब्ध नहीं था और इस समय में काम में आने वाले इंटरनेट को या फिर इंटरनेट पर उपलब्ध वेबसाइट को वेब 1 कहा जाता था जो की इंटरनेट का शुरुआती समय था।

इस समय के इंटरनेट में केवल One way कम्युनिकेशन होता था। मतलब की हम केवल सिग्नल भेज सकते थे, इसमें सिग्नल या फिर आर्डर को वापस Receive करने का कोई भी ऑप्शन नहीं था।

Web 2 – अभी के समय का इंटरनेट।

इसके बाद से इंटरनेट में थोड़ा मॉडिफिकेशन हुवा और चीजे थोड़ी नार्मल यूजर के पास भी जानें लगी थी। और देखते ही देखते इंटरनेट की ये जनरेशन बहुत ज्यादा आगे आ गयी।

इस इंटरनेट की जनरेशन को वेब २ कहा जाता था क्युकी इसमें हमे दोनों तरफ से कम्यूनिकेट करने का ऑप्शन मिलता है। इंटरनेट की इस सेकंड जनरेशन को हम वेब २ के नाम से जानते है और अभी के समय में ये जनरेशन ही चल रही है। इसमें हमे गूगल , फेसबुक और व्हाट्सप्प जैसे प्लेटफार्म देखने को मिले थे। और साथ में हम इंटरनेट पर अभी के समय में जो भी इंटरनेट काम में लेते है और इंटरनेट की इसी जनरेशन में आता है।

Web 3.O – भविष्य का इंटरनेट web3 in Hindi

जैसे की आपको ऊपर बताया था की अभी के समय में हम जो इंटरनेट काम में लेते है वो इंटरनेट की दूसरी पीढ़ी है और इसको हम वेब २ के नाम से जानते है और इसमें हम किसी भी प्लात्फ्रोम पर तवो वे कम्युनिकेशन कर सकते है जैसे की अगर किसी ने इंस्टाग्राम पर कोई फोटो अपलोड करि है तो फिर हम उसको लिखे कर सकते है ,

जिसमे एक एक्शन अपलोड करने का था और दूसरा एक्शन लिखे करने का था इन दोनों को मिलाकर ही वेब २ का निर्माण होता है। लेकिन जब बात वेब ३ की आती है तो चीजे पहले से काफी जायदा बदलने वाली है क्युकी जैसे गणित में ३ आयाम होए है उसी प्रकार इंटरनेटी की इस नयी दुनिया में भी ३ वे कम्युनिकेशन होगा।

लेकिन हम ये जानते ही है की किसी भी चीज की हम इंटरनेट पर केवल २ आयामों से ही देख सकते है लेकिन अगर हम उसी चीज की रियल लाइफ में देखे तो उसे तीनो आयामों से देख सकते है। जसको की हम थ्री डाइमेंशन कहते है। और ये सब चीजे आने वाले ओनटेर्नेट में होने वाली है जिसमे की आपको पूरा इंटरनेट ही अपडेट होता हुवा दिखाई देगा।

वेब ३ से सम्बंधित लिए क्या क्या उपलब्ध है।

अभी के समय में हम वेब ३ से जुड़े हुए लिमिटेड प्लेटफार्म ही देख सकते है जो की अभी के समय में काफी पॉपुलर होते जा रहे है। और अगर आपने काफी पर भी ब्लॉकचैन के बारे में पढ़ा है तो फिर आपको पक्का ये सुनने में आया है की क्रिप्टो भी कुछ चीज है। तो चलिए वेब ३ से जुड़े हुए कुछ प्लेटफार्म और टूल को देख लेते है।

FAQ

वेब ३ में इंटरनेट किसके माध्यम से कनेक्ट होगा।?

ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी।

वेब ३ में इंटरनेट किसके माध्यम से कनेक्ट होगा।?
ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी।

वेब ३ के लिए ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी पर बेस्ड ब्रेव ब्राउज़र काम में लिया जाता है।

वेब ३ के लिए ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी के लिए कोनसा ब्राउज़र काम में लिया जाता है।

वेब ३ के लिए ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी पर बेस्ड ब्रेव ब्राउज़र काम में लिया जाता है।

वेब ३ में किंसी करेंसी को काम में लिया जाता है ?

अभी के समय में जिसको की हम एक वर्तुळ करेंसी कहते है यानि की क्रिप्टोकोर्रेंसी।

वेब ३ का मुख्य रूप से कहा उपयोग किया जायेगा ?

वेब ३ का वैसे तो बहुत सारी जगहों पर उपयोग किया जायेगा। लेकिन जब इंटरटेनमेंट के बारे में बात करते है तो फिर हमे मेटावर्स के कांसेप्ट को समझना होगा क्युकी मेटावर्स को पूरी तफ से ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी से कनेक्ट किया जा रहा है और ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी का सीधा सम्बन्ध वेब ३ से है , हालाँकि अभी के समय में पूरी तरह से मेटावर्स तैयार नहीं हुवा है।

वेब ३ के फायदे क्या क्या है।

वैसे तो वेब ३ के बहुत सारे फायदे है जो की हमे मेटावर्स में देखने को मिलेंगे लेकिन कुछ ऐसे फायदे जो की अभी के समय में हमे देखने को मिल सकते है।

वो कुछ इस प्रकार है।

  • हम इंटरनेट को नए रूप से एक्स्प्लोर कर सकते है।
  • इंटरनेट की कनेक्टिविटी बहुत तेज़ होने वाली है ( ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी की वजह से)
  • हर किसी की इंटरनेट पर प्रजेंस होगी। (हर आदमी किसी न किसी तरह से मेटावर्स से जुड़ने वाला है )
  • डाटा के हैक होने की प्रॉबब्लिटी बहुत ही कम हो जाएगी। (As compare to now days.)

Leave a Comment

Your email address will not be published.